Posts

चंद्रशेखर रथ (1928)
जन्म-स्थान:- बलांगीर
प्रकाशित-गल्पग्रंथ-“अश्वारोहीर गल्प’,1979,”सम्राट ओ अन्यमाने “*1980,क्रितदासर स्वप्न’,1981,”सबुठारू दीर्घ रात्रि “,1984, “सबुजाक स्वप्न“,1984, “अश्रुत स्वर ‘,1989, “एते पखरे समुद्र “,1989, ‘बाघ सवार “,1996 इत्यादि-समुदाय 15 किताबें।


छोटे पुत्र की नई उगती हुई दाढ़ी पर जोर से थप्पड़ मारते हुए बलभद्र रायगुरु गरजने लगा- “चुप बेनालायक इडियट कहीं के तुझे आखिरकर मेडिकल लेना होगा। डाक्टर नहीं तो क्या जूलोजी पढ़कर मास्टर बनेगा? मारूंगा जोर से कि सारे दांत निकल जाएँगे। जाओ, आज अपना आवेदन पत्र जमा करवाकर आओ।”
धोती, कुर्ता और पुराने जमाने के काले चमड़े की चप्पलें पहनकर वह तेजी से अपने सोने के कमरे में चले गए। बूबू को कई दिनों से शेर का सपना आ रहा है। धब्बेदार चादर ओढ़कर बाघ मुंह फाड़कर उसे खाने आता था। कभी-कभी उसे पान चबाने वाले मुंह की तरह दिखता था। उसका मुंह मानो एक हिंगुल गुफा हो। उसके भीतर कड़कड़ाहट के साथ बिजली गिरने की आवाज सुनाई पड़ती थी। पसीने से तरबतर होकर बूबू अंधेरे की ओर भागता और उसके पीछे-पीछे दौड़ता वह बाघ।
अनेक बार उसने देखी थी उस बाघ के पा…

साहड़ा-सुंदरी / देबब्रत मदनराय

देबब्रत मदनराय (1957)
जन्म-स्थान:- बिहारी बाग, कटक-2
प्रकाशित गल्प-ग्रंथ:- चित्रमाटी, महादेवी, प्रियसाखी, असुंदरी, सहयात्री, सप्तलोक, स्वर्गारोहण, जलपरी, सारी रति जन्ह राति, दृश्य, कन्यारे बंशी।


सवारी से उतरकर जब कमला ने पहली बार दुल्हन के रूप में अपने ससुराल के गांव की मिट्टी पर कदम रखा, उस समय वहाँ एकत्रित महिलाएं उसके पैर देखकर कहने लगी कि उन्होने अपने जीवन में इस तरह के सुंदर देवी लक्ष्मी जैसे पैर कभी नहीं देखे! उनकी बातचीत का केन्द्र कमला के अलता रंग से रंगे गोरे पाँव थे। उसी समय शंख-ध्वनि और हुलहुली सुनाई पड़ने लगी। तभी कोई हाथ पकड़कर उसे एक कमरे में ले गया । उसके सिर पर एक हाथ लंबा घूंघट था। वह किसी को भी नहीं देख सकती थी। वह केवल सुन सकती थी उनका हंसी मज़ाक और बातचीत। वह डर गई, जब अचानक किसी ने उसके घूंघट को पीछे की ओर खींच लिया। सुंदर पान के पत्ते के आकार का चेहरा। बादामी आँखें और लाल होंठ। गोरे चेहरे के माथे पर चमक रहा था लाल सिंदूर। वह था कमला का चेहरा। इस अपरिचित माहौल में वह पसीने से तर-बतर हो गई।
'आप लोगों ने नई दुल्हन के पास भीड़ क्यों जमा रखी है? इतनी दूर से आई है…

अंधा राजकुमार / देबब्रत मदनराय

देबब्रत मदनराय (1957)
जन्म-स्थान;:- बिहारी बाग, कटक-2 
प्रकाशित गल्प-ग्रंथ;:- चित्रमाटी, महादेवी, प्रियसाखी, असुंदरी, सहयात्री, सप्तलोक, स्वर्गारोहण, जलपरी, सारी रति जन्ह राति, दृश्य, कन्यारे बंशी।


यह कहानी सच्ची है या झूठी, मुझे पता नहीं। बचपन में दादी मां के मुख से बहुत बार यह कहानी सुनी है। जब हमें नींद नहीं आती थी तब वह अपनी कहानियों का पिटारा खोलकर सुनाने लगती थी। सबसे ज्यादा अचरज की बात थी, विनी दीदी हमेशा जिद्द करती थीं अंधे राजकुमार की कहानी सुनने के लिए। मेरे बहुत बार मना करने के बावजूद भी दादी माँ उसकी ही बात मानती थी। और अंधे राजकुमार की कहानी सुनाती थी।
इच्छा न होते हुए भी मैंने अनेक बार उस कहानी को सुना है। अंधे राजकुमार की कहानी।
घनघोर जंगल। लम्बे-लम्बे पेड़। घोड़े की टापों की आवाज। शेर की दहाड़। गिरते पत्ते मन में उद्वेग और आशंका पैदा कर रहे थे। कुछ घटेगा जरूर। निर्भीक राजपुत्र। हाथ में खून से सनी तलवार। उन्नत भाल पर शोभायमान सोने का मुकुट। इधर-उधर देखते हुए त्रस्त हिरणों के झुंड। पेड़ों के झुरमुटों के पीछे। राजकुमार के शरीर में नहीं थे किसी भी तरह के थकान के निशान; बल…

नन्ही काऊ मछली का साहस / रजनी कान्त मोहंती

रजनी कान्त मोहंती (1952)
पता:- झामराइपुर (बिजुपट्टनायक नगर ), महताब चौक के पास, भद्रक-756181 (ओड़िशा)
Email: rajanikanta_mohanty06 AT yahoo.co.in


पानी का स्तर लगातार बढ़ता जा रहा था। नदी से बाढ़ का पानी तालाब में घुस रहा था। कुछ जगह लोगों में कानाफ़ूसी थी कि पानी ज़ोर से उफान पर है। तालाब बहुत पुराना था। अभी अभी एक तटबंध तालाब के चारों ओर बनाया गया था जिसकी वजह से उसका विस्तार बढ़ गया था। मगर तालाब के किनारे अमरी तथा कुछ जंगली झाड़ियां उसकी सीमा बनकर खड़ी हुई थीं। तालाब के स्नानघाट के काफ़ी नजदीक में ताड़ के पेड़ भी लगे हुए थे।
बाढ़ के पानी से तालाब छलक रहा था और ताड़-पेड़ों की जड़ें पानी में डूब गई थी। बाढ़ के पानी के साथ कई प्रकार की मछलियां, केकडें, साँप और छिपकलियां तालाब में बह रही थी और साथ ही साथ,कुछ मछलियां और अन्य जलीय जीव तालाब से खुले मैदान में बाहर निकल रहे थे बहुत लंबे समय से रह रहे अपने बंद निवास से! उन्हें अपने गंतव्य के बारे में कुछ भी पता नहीं था, लेकिन वह आजादी उन्हें रोमांचक लग रही थी! उफनते तालाब का पानी तरंगों के साथ आगे बढ़ता जा रहा था।
पास की दलदल झाड़ियों में …

कुरेई फूल का रहस्य / देवाशीष पाणिग्रही

“पहाड़ी मौसम,पहाड़ी नदियां और सुंदर स्त्रियाँ – सभी का मिज़ाज अचानक बदल जाता हैं। किसी को भी इसका पता नहीं चलता है।” कहते हुए बलजीत जोर-जोर से हंसने लगी। सरोज उसके इस व्यवहार से आश्चर्य चकित हो गया।
बलजीत से कब, क्यों, कैसे पूछना सच में व्यर्थ था। वह ग्रामोफोन के रिकार्ड की तरह लगातार बात करती जाती थी। एक वाक्य पूरा होने के बाद वह जोर जोर से हंसने लगती और हँसते हँसते चुटकुले सुनाती। ऐसे लोगों को हिन्दी में हंसमुख कहते है। मानो उसने तो हमेशा इस तरह हंसने की कसम खा ली हो। मगर सरोज ठीक विपरीत था। अधिकतर समय वह चुपचाप बैठता था। जब लोग बातों में मशगूल होते, वह कहीं दूर दराज कोने में बैठकर उपन्यास पढ़ता नजर आता। अपने कमरे में लौटने के बाद वह गरम रजाई ओढ़कर रेडियो पर भूले बिसरे मधुर गीत सुनता था। वह अपने तकिये के नीचे से प्रियदर्शनी के फोटो बाहर निकालता और पूरे ध्यान से उसके पत्र पढ़ने लगता।
बलजीत उसे गंभीर आदमी कहकर चिढ़ाती थी। वह कहती थी, “मिस्टर दार्शनिक, जीवन हमेशा के लिए खत्म नहीं हो जाता है। हरेक को प्रति क्षण ,प्रति पल और प्रति सेकंड जीना चाहिए वह कार्य करते हुए जिसे वह करना चाहता है…

शर्मीली दुल्हन / कृपा सागर साहू

"सुनो जी, सो गई हो? "
बिदेई ने अपने कमरे में प्रवेश कर दरवाजे पर कुंडी लगाते हुए अपनी नई नवेली दुल्हन से पूछा।
हालांकि, उसकी दुल्हन पूरे दिन काम करने के बाद थक कर चकनाचूर होकर बिस्तर पर पड़ी हुई थी, मगर उसकी आँखों में नींद नहीं थी। वह अभी भी जाग रही थी और निद्रालू आंखों से छत की ओर देख रही थी। जैसे ही उसने बिदेई को देखा, वह बिस्तर से उठकर बैठ गई और छाती के नीचे तक घूंघट निकाल लिया। बिदेई ने दरवाजे के बाहर झाँककर देखा कि कोई देख तो नहीं रहा है। वह सीधे पलंग के पास आकर बैठ गया। उत्तेजनावश अपनी पत्नी को लुभाने के लिए उसके मुंह से कोई शब्द नहीं निकल रहा था। उसने अपना हाथ लजकुरी के कमर में डाल दिया।
लजकुरी उस प्रेमपाश से मुक्त होने की कोशिश करते हुए फुसफुसाने लगी, "यह क्या कर रहे हो?"
बिदेई ने उत्साहपूर्वक उसकी तारीफ करते हुए कहा, "अब क्यों, नहीं कर सकता हूँ? क्या मैं तुम्हें गुदगुदी भी नहीं कर सकता? मेरे पिताजी बाहर सो रहे हैं .... .... "
लालटेन का मद्धिम प्रकाश लजकुरी की सुंदरता देखने के लिए पर्याप्त नहीं था। घूंघट के पीछे उसका छुपा हुआ चेहरा कपड़े के एक बं…